July 24, 2024
गीता के पहले श्लोक का अर्थ

हम बहुत सी बातें सुनते हैं, जैसे कि त्रिगुणात्मकः प्रकृतिः पर क्या हम उन बातों की गूढ़ता को समझते भी हैं ? क्या अर्थ है, इस छोटी सी पंक्ति का ? प्रकृति त्रिगुण वाली कैसे है ? कहीं कोई व्याख्या तो अवश्य होगी, क्या है वो ? ऐसे ही गीता को सब पढते हैं, पर क्या उस गीता के श्लोकों को पढ़कर समझा जा सकता है ? यदि हाँ तो फिर गीता के पहले श्लोक को ही समझने में इतनी भारी भूल कैसे ? ये समझना होगा कि हम गीता में जो लिखा है, उसे समझते भी हैं या मात्र पढ़कर, इसी भ्रम में रहते हैं कि हमारी समझ में सब आ गया है ? आइये, समझते हैं, इस श्लोक का विस्तारित अर्थ | यदि आपको ये वीडियो अच्छा लगे तो, इसे अवश्य शेयर करें |

इस प्रकार के ज्ञानवर्धक वीडियो को देखने के लिए सबस्क्राइब करें, शास्त्र ज्ञान का youtube चैनल – https://www.youtube.com/user/abhinandansharma84

ऐसे अनेकों प्रश्नों के उत्तर इस व्याख्यान में दिये गए | यदि ये वीडियो आपको पसंद आये तो आप इसे फेसबुक पर, व्हात्सप्प पर, youtube पर शेयर कीजिये (अपनी टिप्पणी के साथ) , लाइक कीजिये और कमेन्ट कीजिये ताकि ये वीडियो, उन हजारों लाखों लोगों तक पहुँच जाए, जो ये समझते हैं कि शास्त्रों की कोई उपयोगिता आज के समय में नहीं है | जो ये समझते हैं कि इनको पढने से कोई लाभ नहीं है !

सनातन धर्म क्या है ? धर्मो रक्षति रक्षितः पर कैसे ? – https://youtu.be/L_xi0n7PtFs

पंचतंत्र की असली कहानी, #1 – https://youtu.be/_Kt7AHM8SqQ

योग इंजीनियरिंग – प्रैक्टिकल ? – https://youtu.be/WMrRrHQ04LI

ज्योतिष क्लासेस #1 – https://youtu.be/dQNr1WTHXyo

आत्मा क्या है ? मन, बुद्धि, चित्त आदि कैसे काम करते हैं ? – https://youtu.be/Wyk76Ub5oE4

चार्वाक क्यों गलत थे ? – https://youtu.be/NLzMm9xVaio

अद्वैत क्या है ? समझें, कहानी से – https://youtu.be/EsGF-SjmB2w

शास्त्रज्ञान वेबसाइट – https://shastragyan.in

फेसबुक लिंक – https://www.facebook.com/abhinandan.sharma.9809/

योग क्या है ? योग क्या नहीं है ? – https://youtu.be/ZDc5oUV9zew

आशा है, इस महत्वपूर्ण वीडियो के प्रचार में, थोडा योगदान आपका भी होगा |

गीता के पहले श्लोक का अर्थ और त्रिगुणात्मकः प्रकृतिः का क्या अर्थ है ?, shastra gyan, gita, geeta

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page