May 20, 2024

प्रश्नोत्तरमाला

प्रश्नोत्तरमाला

आदिशंङ्कराचार्यकृत प्रश्नोत्तरमाला

प्रश्नोत्तरमाला


अपारसंसार समुद्रमध्ये सम्मज्जतो मे शरणं किमस्ति। 
गुरो कृपालो कृपया वदैतद्विश्वेशपादाम्बुजदीर्घनौका। १ । 

प्र: हे दयामय गुरुदेव ! कृपा करके यह बताइये कि अपार संसार रुपी समुद्र में मुझ डूबते हुए का आश्रय क्या है?

उ: विश्वपति परमात्मा के चरणकमलरूपी जहाज। 

बद्धो हि को यो विषयानुरागी
का वा विमुक्तिर्विषये विरक्तिः।
को वास्ति घोरो नरकः स्वदेह-
स्तृष्णाक्षयः स्वर्गपदं किमस्ति। 2 ।

प्र: वास्तव में बंधा कौन है? –
उ: जो विषयों में आसक्त है।

प्र: विमुक्ति क्या है?
उ: विषयों से वैराग्य।

प्र: घोर नरक क्या है?
उ: अपना शरीर।

प्र: स्वर्ग का पद क्या है?
उ: तृष्णा का नाश होना।

संसारहृत्कः श्रुतिजात्मबोधः को मोक्षहेतुः कथितः स एव।
द्वारं किमेकं नरकस्य नारी का स्वर्गदा प्राणभृतामहिंसा। ३ ।

प्र: संसार को हरनेवाला कौन है ?
उ: वेद से उत्पन्न आत्मज्ञान ।

प्र: मोक्ष का कारण क्या कहा गया है ?
उ: वही आत्मज्ञान ।

प्र: नरक का प्रधान द्वार क्या है ?
उ: नारी ।

प्र: स्वर्ग को देनेवाली क्या है ?
उ: जीवमात्र की अहिंसा ।

शेते सुखं कस्तु समाधिनिष्ठो जागर्ति को व सदसद्विवेकी।
के शत्रवः सन्ति निजेन्द्रियाणि तान्येव मित्राणि जितानि यानि। ४ ।

प्र: (वास्तव में) सुख से कौन सोता है ?
उ: जो परमत्मा के स्वरुप में स्थित है ।

प्र: और कौन जागता है ?
उ: सत और असत के तत्व का जानने वाला ।

प्र: शत्रु कौन हैं ?
उ: अपनी इन्द्रियां; परन्तु जो जीती हुई हों तो वही मित्र हैं ।

को वा दरिद्रो हि विशालतृष्णः श्रीमांश्च को यस्य समस्ततोषः।
जीवन्मृतः कस्तु निरुद्यमो यः किं वामृतं स्यात्सुखदा निराशा। ५ ।

प्र: दरिद्र कौन है ?
उ: भारी तृष्णा वाला ।

प्र: धनवान कौन है ?
उ: जिसे सब तरह से संतोष है ।

प्र: (वास्तव में) जीते जी मरा कौन है ?
उ: जो पुरुषार्थहीन है ।

प्र: अमृत क्या हो सकता है ?
उ: सुख देने वाली निराशा (आशा से रहित होना) ।

पाशो हि को यो ममताभिमानः सम्मोहयत्येव सुरेव का स्त्री।
को वा महान्धो मदनातुरो यो मृत्युश्च को वापयशः स्वकीयम् । ६ ।

प्र: वास्तव में फांसी क्या है ?
उ: जो ‘मैं’ और ‘मेरा’ पन है ।

प्र: मदिरा की तरह क्या चीज़ निश्चय ही मोहित कर देती है ?
उ: नारी ।

प्र: बड़ा भारी अन्धा कौन है ?
उ: जो कामवश व्याकुल है ।

प्र: मृत्यु क्या है ?
उ: अपनी अपकीर्ति ।

को व गुरुर्यो हि हितोपदेष्टा 
शिष्यस्तु को यो गुरुभक्त एव।
को दीर्घरोगो भव एव साधो
किमौषधं तस्य विचार एव। ७ ।

प्र: गुरु कौन है ?
उ: जो केवल हित का ही उपदेश करनेवाला है ।

प्र: शिष्य कौन है ?
उ: जो गुरु का भक्त है ।

प्र: बड़ा भरी रोग क्या है ?
उ: हे साधो ! बार बार जन्म लेना ही ।

प्र: उसकी दवा क्या है ?
उ: परमात्मा के स्वरुप का मनन ।

किं भूषणाद्भूषणमस्ति शीलं
तीर्थं परं किं स्वमानो विशुद्धं।
किमत्र हेयं कनकं च कान्ता
श्राव्यं सदा किं गुरुवेदवाक्यं । ८ ।

प्र: भूषणो में उत्तम भूषण क्या है ?
उ: उत्तम चरित्र ।

प्र: सबसे उत्तम तीर्थ क्या है ?
उ: अपना मन जो विशेष रूप से शुद्ध किया हुआ हो ।

प्र: इस संसार में त्यागने योग्य क्या है ?
उ: काञ्चन और कामिनी ।

प्र: सदा(मन लगाकर) सुनने योग्य क्या है ?
उ: वेद और गुरु का वचन ।

के हेतवो ब्रह्मगतेस्तु सन्ति 
सत्संङ्गतिर्दानविचारतोषाः
के सन्ति सन्तोऽखिलवीतरागा 
अपास्तमोहाः शिवतत्त्वनिष्ठाः । ९ ।

प्र: परमात्मा की प्राप्ति के लिए क्या क्या साधन हैं ?
उ: सत्संग, सात्विक दान, परमेश्वर के स्वरुप का मनन और संतोष ।

प्र: महात्मा कौन हैं ?
उ: सम्पूर्ण संसार से जिनकी आसक्ति नष्ट हो गयी है, जिनका अज्ञान नाश हो चुका है और जो कल्याण रूप परमात्मतत्त्व में स्थित हैं ।

को वा ज्वरः प्राणभृतां हि चिन्ता
मूर्खोस्ति को यस्तु विवेकहीनः।
कार्या प्रिया का शिवविष्णुभक्तिः 
किं जीवनं दोषविवर्जितं यत् । १० ।

प्र: प्राणियों के लिए वास्तव में ज्वर क्या है ?
उ: चिन्ता ।

प्र: मूर्ख कौन है ?
उ: जो विचारहीन है ।

प्र: करनेयोग्य प्यारी क्रिया क्या है ?
उ: शिव और विष्णु की भक्ति ।

प्र: वास्तव में जीवन कौन सा है ?
उ: जो सर्वथा निर्दोष है ।

विद्या हि का या ब्रह्मगतिप्रदा या 
बोधो हि को यस्तु विमुक्तिहेतुः ।
को लाभ आत्मावगमो हि यो वै
जितं जगत्केन मनो हि येन । ११ ।

प्र: वास्तव में विद्या कौन सी है ?
उ: जो परमात्मा को प्राप्त करा देने वाली है ।

प्र: वास्तविक ज्ञान क्या है ?
उ: जो (यथार्थ) मुक्ति का कारण है ।

प्र: यथार्थ लाभ क्या है ?
उ: जो परमात्मा कि प्राप्ति है, वही ।

प्र: जगत को किसने जीता ?
उ: जिसने मन को जीता ।

शूरान्महाशूरतमोऽस्ति को वा 
मनोजबाणैर्व्यथितो न यस्तु।
प्राज्ञोऽथ धीरश्च समस्तु को वा 
प्राप्तो न मोहं ललनाकटाक्षैः। १२ ।

प्र: वीरों में सबसे बड़ा वीर कौन है ?
उ: जो कामबाणों से पीड़ित नहीं होता ।

प्र: बुद्धिमान, समदर्शी और धीरपुरुष कौन है ?
उ: जो स्त्रियों के कटाक्षों से मोह को प्राप्त न हो ।

विषाद्विषम् किं विषयाः समस्ता 
दुःखी सदा को विषयानुरागी।  
धन्योस्ति को यो परोपकारी 
कः पूजनीयः शिवतत्वनिष्ठः। १३ ।

प्र: विष से भी भारी विष कौन है ?
उ: सारे विषयभोग ।

प्र: सदा दुःखी कौन है ?
उ: जो संसार के भोगों में आसक्त है ।

प्र: धन्य कौन है ?
उ: जो परोपकारी है ?

प्र: पूजनीय कौन है ?
उ: कल्याणरूप परमात्मतत्व में स्थित महात्मा ।

विज्ञान्महाविज्ञतमोऽस्ति को वा
नार्या पिशाच्या न च वञ्चितो यः।
का शृंखला प्राणभृतां हि नारी 
दिव्यं व्रतं किं च समस्तदैन्यम् । १५ ।

प्र: समझदारों में सबसे अच्छा समझदार कौन है ?
उ: जो स्त्रीरूप पिशाचिनी से नहीं ठगा गया है ।

प्र: प्राणियों के लिए सांकल क्या है ?
उ: नारी ही ।

प्र: श्रेष्ठ व्रत क्या है ?
उ: पूर्ण रूप से विनयभाव ।

ज्ञातुं न शक्यं च किमस्ति सर्वै-
र्योषिन्मनो यच्चरितं तदीयम् ।
का दुस्त्यजा सर्वजनैर्दुराशा 
विद्याविहीनः पशुरस्ती को वा । १६ । 

प्र: सब किसी के लिए क्या जानना सम्भव नहीं है ।
उ: स्त्री का मन और उसका चरित्र ।

प्र: सब लोगों के लिए क्या त्यागना कठिन है ?
उ: बुरी वासना (विषयभोग और पाप की इच्छाएं)

प्र: पशु कौन है ?
उ: जो सद्विद्या से रहित(मूर्ख) है ।

वासो न सङ्गः सह कैर्विधेयो
मूर्खैश्च नीचैश्च खलैश्च पापैः ।
मुमुक्षुणा किं त्वरितं विधेयं 
सतसङ्गतिर्निममतेशभक्तिः  । १७ ।

प्र: किन-किन के साथ निवास और संग नहीं करना चाहिए ?
उ: मूर्ख, नीच, दुष्ट और पापियों के साथ ।

प्र: मुक्ति चाहनेवालों को तुरन्त क्या करना चाहिए ?
उ: सत्संग, ममता का त्याग और परमेश्वर की भक्ति ।

लघुत्वमूलं च किमर्थितैव
गुरुत्वमूलं यदयाचनं च ।
जातो हि को यस्य पुनर्न जन्म
को वा मृतो यस्य पुनर्न मृत्युः । १८ ।

प्र: छोटेपन की जड़ क्या है ?
उ: याचना हि ।

प्र: बड़प्पन की जड़ क्या है ?
उ: कुछ भी न माँगना ।

प्र: किसका जन्म सराहनीय है ?
उ: जिसका फिर जन्म न हो ।

प्र: किसकी मृत्यु सराहनीय है ?
उ: जिसकी फिर मृत्यु नहीं होती ।

मूकोऽस्ति को वा बधिरश्च को वा
वक्तुं न युक्तं समाये समर्थः।
तथ्यं सुपथ्यं न शृणोति वाक्यं 
विश्वासपात्रं न किमस्ति नारि । १९ ।

प्र: गूंगा कौन है ?
उ: जो समयपर उचित वचन कहने में समर्थ नहीं है ।

प्र: और बहिरा कौन है ?
उ: जो यथार्थ और हितकर वचन नहीं सुनता ।

प्र: विश्वास के योग्य कौन नहीं है ?
उ: नारी ।

तत्त्वं किमेकं शिवमद्वितीयं
किमुत्तमं सच्चरितं यदस्ति ।
त्याज्यं सुखं किं स्त्रियमेव सम्यग 
देयं परं किं त्वभयं सदैव । २० ।

प्र: एक तत्त्व क्या है ?
उ: अद्वितीय कल्याण तत्व (परमात्मा) ।

प्र: सबसे उत्तम क्या है ?
उ: जो उत्तम आचरण है ।

प्र: कौन सा सुख तज देना चाहिए ?
उ: सब प्रकार से स्त्री का सुख ही ।

प्र: देने योग्य उत्तम दान क्या है ?
उ: सदा अभय ही ।

शत्रोर्महाशत्रुतमोऽस्ति को वा
कामः सकोपानृतलोभतृष्णः।
न पूर्यते को विषयैः स एव
किं दुःखमूलं ममताभिधानम् । २१ ।

प्र: शत्रुओं में सबसे बड़ा भारी शत्रु कौन है ?
उ: क्रोध, झूठ, लोभ और तृष्णासाहित काम ।

प्र: विषयभोगों से कौन तृप्त नहीं होता ?
उ: वही काम ।

प्र: दुःख की जड़ क्या है ?
उ: ममता नामक दोष ।

किं मण्डनं साक्षरता मुखस्य 
सत्यं च किं भूतहितं सदैव ।
किं कर्म कृत्वा न हि शोचनीयं 
कामारिकंसारिसमर्चनाख्यम् । २२ ।

प्र: मुख का भूषन क्या है ?
उ: विद्वता

प्र: सच्चा कर्म क्या है ?
उ: सदा ही प्राणियों का हित करना ।

प्र: कौन सा कर्म करके पछताना नहीं पड़ता ?
उ: भगवान शिव और श्रीकृष्ण का पूजनरूप कर्म ।

कस्यास्ति नाशे मनसो हि मोक्षः 
क्व सर्वथा नास्ति भयं विमुक्तौ।
शल्यं परं किं निजमूर्खतैव 
के के ह्युपास्या गुरुदेव वृद्धाः। २३ ।

प्र: किसके नाश में मोक्ष है ?
उ: मन के ही ।

प्र: किस्में सर्वथा भय नहीं है ?
उ: मोक्ष में ।

प्र: सबसे अधिक चुभने वाली चीज़ कौन सी है ?
उ: अपनी मूर्खता ही ।

प्र: उपासना के योग्य कौन कौन हैं ?
उ: देवता, गुरु और वृद्ध ।

उपस्थिति प्राणहरे कृतान्ते
किमाशु कार्यं सुधिया प्रयत्नात् ।
वाक्कायचित्तैः सुखदं यमघ्नं 
मुरारिपादाम्बुजचिन्तनं च। २४ ।

प्र: प्राण हरनेवाले काल के उपस्थित होने पर अच्छी बुद्धिवालों को बड़े जतन से तुरन्त क्या करना उचित है ?
उ: सुख देनेवाले और मृत्यु का नाश करनेवाले भगवान् मुरारि के चरणकमलों का तन, मन, वचन से चिन्तन करना ।

के दस्यवः सन्ति कुवासनाख्याः
कः शोभते यः सदसि प्रविद्यः।
मातेव का या सुखदा सुविद्या 
किमेधते दानवशात्सुविद्या। २५ ।

प्र: डाकू कौन हैं ?
उ: बुरी वासनाएं ।

प्र: सभा में शोभा कौन पाटा है ?
उ: जो अच्छा विद्वान है ।

प्र: माता के समान सुख देनेवाली कौन है ?
उ: उत्तम विद्या ।

प्र: देने से क्या बढ़ती है ?
उ: अच्छी विद्या ।

कुतो हि भीतिः सततं विधेया
लोकापवादाद्भवकाननाच्च ।
को वातिबन्धुः पितरश्च के वा
विपत्साहयः परिपालका ये । २६ ।

प्र: निरन्तर किससे डरना चाहिए ?
उ: लोक-निन्दा से और संसार रुपी वन से ।

प्र: अत्यन्त प्यारा बन्धु कौन है ?
उ: जो विपत्ति में सहायता करे ।

प्र: और पिता कौन है ?
उ: जो सब प्रकार से पालन-पोषण करे ।

बुद्ध्वा न बोध्यं परिशिष्यते किं 
शिवप्रसादं सुखबोधरूपम् ।
ज्ञाते तु कस्मिन्विदितं जगत्स्या-
त्सर्वात्मके ब्रह्मणि पूर्णरूपे । २७ ।

प्र: क्या समझने के बाद कुछ भी समझना बाकी नहीं रहता ?
उ: शुद्ध विज्ञान, आनन्दघन कल्याणरूप परमात्मा को ।

प्र: किसको जान लेने पर (वास्तव) में जगत जाना जाता है ?
उ: सर्वात्मरूप परिपूर्ण ब्रह्म के स्वरुप को ।

किं दुर्लभं सद्गुरुरस्ति लोके
सत्संगतिर्ब्रह्मविचारणा च ।
त्यागो हि सर्वस्व शिवात्मबोधः 
को दुर्जयः सर्वजनैर्मनोजः । २८ ।

प्र: संसार में दुर्लभ क्या है ?
उ: सद्गुरु, सत्संग, ब्रह्मविचार, सर्वस्व का त्याग और कल्याणरूप परमात्मा का ज्ञान ।

प्र: सबके लिए क्या जीतना कठिन है ?
उ: कामदेव ।

पशोः पशुः को न करोति धर्मं 
प्राधीतशास्त्रोऽपि न चात्मबोधः।
किन्तद्विषं भाति सुधोपमं स्त्री
के शत्रवो मित्रवदात्मजाद्याः। २९ ।

प्र: पशुओं से भी बढ़कर पशु कौन है ?
उ: शास्त्र का खूब अध्ययन करके जो धर्म का पालन नहीं करता और जिसे आत्मज्ञान नहीं हुआ ।

प्र: वह कौन सा विष है जो अमृत सा जान पड़ता है ?
प्र: नारी ।

प्र: शत्रु कौन है जो मित्र सा लगता है ?
उ: पुत्र आदि ।

विद्युच्चलं किं धनयौवनायु-
र्दानं परं किञ्च सुपात्रदत्तम् ।
कण्ठङ्गतैरप्यसुभिर्न कार्यं
किं किं विधेयं मलिनं शिवार्चा । ३० ।

प्र: बिजली की तरह क्षणिक क्या है ?
उ: धन, यौवन और आयु ।

प्र: सबसे उत्तम दान कौन सा है ?
उ: जो सुपात्र को दिया जाय ।

प्र: कण्ठगत प्राण होने पर भी क्या नहीं करना चाहिए और क्या करना चाहिए ?
उ: पाप नहीं करना चाहिए और कल्याणरूप परमात्मा की पूजा करनी चाहिए ।
अहर्निशं किं परिचिन्तनीयं
संसारमिथ्या त्वशिवात्मतत्त्वम् ।
किं कर्म यत्प्रीतिकरं मुरारेः 
क्वास्था न कार्या सततं भवाब्धौ । ३१ ।

प्र: रात-दिन विशेषरूप से क्या चिन्तन करना चाहिए ?
उ: संसार का मिथ्यापन और कल्याणरूप परमात्मा का तत्त्व ।

प्र: वास्तव में कर्म क्या है ?
उ: जो भगवान् श्रीकृष्ण को प्रिय हो ।

प्र:सदैव किसमें विश्वास नहीं करना चाहिए ?
उ: संसार-समुद्र में ।

कण्ठङ्गता वा श्रवणङ्गता वा
प्रश्नोत्तराख्या मणिरत्नमाला ।
तनोतु मोदं विदुषां सुरम्यं
रमेशगौरीशकथेव सद्यः । ३२ ।

यह प्रश्नोत्तर नाम की मणिरत्नमाला कण्ठ में या कानो में जाते ही लक्ष्मीपति भगवान् विष्णु और उमापति भगवान् शंकर की कथा की तरह विद्वानों के सुन्दर आनन्द को बढ़ावे ।

हरि ॐ
——————इति स्वामी शंकराचार्यकृत प्रश्नोत्तरी——————

You cannot copy content of this page