April 23, 2024
शिव और कालभीति सम्वाद

सतोगुण, रजोगुण और तमोगुण के आधार पर भी वर्गीकरण हो सकता है | ऐसा हम कभी नहीं सोचते | वर्गीकरण, विभिन्न गुणों के आधार पर होता है, अध्ययन किया जाता है किन्तु मनुष्य का वर्गीकरण, सतोगुण, रजोगुण और तमोगुण के आधार पर क्यों नहीं किया जा सकता है ? कैसे एक आदमी दुसरे आदमी से भिन्न है ? अलग है ? ये समझना आवश्यक है |

इसको जानने के लिए, सुननी चाहिए, शिवजी और कालभिती की ये कथा | जिसमें उत्तम तर्क द्वारा, शिव जी और कालभीति में वाद-विवाद होता है और सतोगुण, रजोगुण और तमोगुण का महत्वपूर्ण प्रतिपादन है | क्या फर्क है, एकआदमी और दूसरे आदमी में ! क्या सभी आदमी एक जैसे नहीं होते ? जो आजकल प्रचलन में है कि सभी को एक जैसा समझो, ऐसा नहीं हो सकता ? क्यों सभी एक दुसरे को एक जैसा नहीं समझते !! उसका कारण और मूल में यही तीनों गुण हैं | समान गुण वालों में दोस्ती होती है और विपरीत गुण वालो में दुश्मनी |



इस कथा को सुने और यदि अच्छी लगे और कुछ तत्व बात पता चले तो शेयर करें | व्हात्सप्प पर, youtube पर, फेसबुक पर, सभी जगह | लोग तात्विक बातें और शास्त्रों की गूढ़ बातों को समझने की बजाए, केवल कथाएँ पढ़ कर मन बहला लेते हैं पर ये कथाएँ बहुत कुछ सिखाती हैं | नहीं क्या ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page