May 24, 2024
ganesh ji गणेश जी ने कैसे तोडा कुबेर का घमंड

पहले बच्चों को शिक्षा, शिष्टाचार, कर्तव्य आदि सिखाने के लिये घर के दादा दादी सोने से पहले बच्चों को कहानियां सुनाते थे | बच्चे कहानी कहानी में, कोई शिक्षा ग्रहण कर लेते थे | फिर एकल परिवार आने के बाद से, ये जिम्मेदारी माँ-बाप पर आ गयी पर क्या माँ-बाप बच्चों को कहानियां या नैतिक शिक्षा दे पा रहे हैं ? कहानियां धीरे धीरे बच्चों के जीवन से खत्म होती जा रही हैं और उनकी जगह मोबाइल और यूट्यूब के वीडियो ले रहे हैं |

पर वास्तव में कहानियाँ नहीं, नैतिक शिक्षा, लोक शिक्षा बच्चों के जीवन से समाप्त हो रही है | इसलिए कहानियों का महत्व समझें और बच्चों को सुनाएँ | इस बार की बालसंस्कारशाला में बच्चो को कुबेर और गणेश जी की कहानी सुनाई गयी, जिसमें बताया गया कि देवताओं और भगवान का क्रम क्या है ! घमंड नहीं करना चाहिए, शो ऑफ नहीं करना चाहिए और ये सब बता दिया, कहानी-कहानी में | आप भी देखें, अपने बच्चों को दिखाएं, अगर वो न देखें तो स्वयं देखें और फिर बच्चों को सुनाएँ पर कहानियों को जिन्दा रखिये | कहानियां ज़िंदा रहेंगी तो बच्चे सीखते रहेंगे | (वीडियो लिंक कमेंट बॉक्स में) कहानी तो आपने ये सुनी होगी पहले भी, पर बच्चों को कैसे सुनानी है, उसके लिए ये वीडियो अवश्य देखें |

यदि आपको ये वीडियो पसंद आये तो इसे लाइक करें, शेयर करें, अपने फैमिली ग्रुप में, रिश्तेदारों के ग्रुप में, सोसाइटी के ग्रुप में, व्हात्सप्प अवश्य करें ताकि और लोग भी इसे देखें, सुनें और समझें ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page